मध्य प्रदेश

6 साल के मासूम को पुलिसवाले ने दी दर्दनाक मौत; मामूली बात पर ऐसे ली जान, गिरफ्तार

ग्वालियर/दतिया. मध्य प्रदेश की दतिया पुलिस ने 6 साल के मयंक की हत्या का राज खोल दिया है. 6 साल के बच्चे मयंक सेन की हत्या ग्वालियर पुलिस में हवलदार रवि शर्मा ने की थी. दतिया में ड्यूटी कर रहे हवलदार शर्मा को मयंक पैसे मांगकर परेशान कर रहा था. इससे गुस्साए रवि ने मयंक की गला घोंटकर हत्या कर दी और लाश को अपनी कार में डाल दिया. रात को ग्वालियर लौटने पर उसने ये लाश झांसी रोड इलाके में फेंक दी. घटना को अंजाम देते वक्त उसकी कार सीसीटीवी में कैद हो गई. पुलिस ने सीसीटीवी फूटेज के आधार पर रवि को दबोचा लिया.

गौरतलब है कि दतिया के कोतवाली थाना में 5 मई को एक बच्चे की गुमशुदगी दर्ज हुई थी. पंचशील नगर कॉलोनी के रहने वाले संजीव सेन का बेटा लापता हो गया था. उसने बताया कि उसका 6 साल का बेटा मयंक 4 मई को पीतांबरा माता की रथयात्रा देखने गया था. मयंक रात को घर वापस नहीं लौटा. रिश्तेदारों के यहां तलाशने के बाद भी बेटे का पता नहीं चला. इस पर कोतवाली पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज कर मयंक की तलाश शुरू की थी. 6 मई को दतिया पुलिस को खबर मिली कि ग्वालियर के थाना झांसी रोड के साइंस कॉलेज इलाके में एक बच्चे की लाश मिली है. दतिया पुलिस के साथ ग्वालियर आए संजीव ने लाश की शिनाख्त मयंक के रूप में की. पुलिस ने बच्चे का पोस्टमॉर्टम कराकर लाश परिजनों को सौंप दी. उसके बाद ग्वालियर पुलिस ने ये केस दतिया पुलिस के सुपुर्द कर दिया.

ग्वालियर के सीसीटीवी फुटेज ने खोला हत्या का राज

ग्वालियर में 5 मई को मयंक की लाश मिलने के बाद पुलिस ने पड़ताल शुरू की. पुलिस ने विवेकानंद चौराहे पर लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले जिसमें एक काले रंग की कार कॉलेज की तरफ आते और थोड़ी देर बाद वापस लौटती नजर आई. पुलिस ने आगे लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले तब कार में से लाश बाहर फेंकने की घटना भी कैद हो गई. कार के नंम्बर के आधार पर पुलिस कार मालिक के पास पहुंची. कार महलगांव निवासी रवि शर्मा की निकली. रवि तिघरा पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में हवलदार के रूप में पदस्थ है. ग्वालियर पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे से मिले क्लू के आधार पर दतिया कोतवाली पुलिस को जानकारी दी.

रुपए मांग कर परेशान कर रहा था मासूम

दतिया कोतवाली पुलिस ने ग्वालियर पुलिस की मदद से हवलदार रवि शर्मा को हिरासत में ले लिया. पूछताछ में रवि ने बच्चे मयंक की हत्या करना कबूल लिया. रवि ने बताया कि रथयात्रा के दौरान उसकी ड्यूटी पंचशील नगर कॉलोनी के गेट पर थी. इस दौरान मयंक बार-बार आकर उससे पैसे मांग रहा था. आरोपी ने बताया कि उसने मयंक को भगाया लेकिन फिर भी वो परेशान करता रहा, लिहाजा तनावग्रस्त होने के चलते उसने मयंक का गला घोंटकर हत्या कर दी. हत्या के बाद मयंक की लाश कार में रख ली और ग्वालियर लौटते वक्त साइंस कॉलेज के पास लाश को फेंक दिया.

Tags: Gwalior news, Mp news


Source link

Related Articles

Back to top button