उज्जैनउज्जैन धार्मिक

शुभ मुर्हूत में हुई मंगल घटस्थापना

हरसिद्धि व अन्य मंदिरों में बाहर से दर्शन

उज्जैन। आज से शारदीय नवरात्रि की शुरूआत हो गई है। हरसिद्धि समेत अन्य प्रमुख देवी मंदिरों में शुभ मुर्हूत में मंगल घटस्थापना हुई तो वहीं चामुंडा माता मंदिर में सुबह होने वाली आरती में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित हुए। कोरोना संक्रमण के कारण हरसिद्धि, चामुंडा, गढ़कालिका, नगरकोट आदि प्रमुख देवी मंदिरों में श्रद्धालुओं का प्रवेश मंदिर के अंदर प्रतिबंधित था, इसलिए बाहर से ही श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। यह व्यवस्था पूरे नौ दिनों तक मंदिरों में लागू रहेगी।
इधर हरसिद्धि मंदिर के प्रबंधक अवधेश जोशी ने बताया कि गर्भगृह में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद है, इसीलिए दीप मालिका की बुकिंग भी बहुत कम हुई है। पूर्व के वर्षों में विदेश से भी दीप मालिका की बुकिंग श्रद्धालुओं द्वारा कराई जाती थी, लेकिन इस बार विदेश से एक भी बुकिंग नहीं हो सकी है। श्री जोशी के अनुसार जिन लोगों द्वारा दीप मालिका की बुकिंग कराई जाती है उन्हें मंदिर के गर्भगृह में जाकर माता हरसिद्धि की पूजन करने का अवसर प्राप्त होता है। लेकिन इस वर्ष कोरोना महामारी है और लोगों को यह जानकारी दी गई थी कि भले ही दीप मालिका लगाने के लिए बुकिंग करा ली जाए परंतु गर्भगृह में प्रवेश कर पूजन का अवसर नहीं मिल सकेगा, संभवत: यही कारण रहा है कि न केवल स्थानीय बल्कि बाहरी क्षेत्रों से भी श्रद्धालुओं ने बहुत कम बुकिंग कराई है। हरसिद्धि मंदिर के साथ ही अन्य प्रमुख देवी मंदिरों में आज सुबह से ही श्रद्धालुओं को बाहर से दर्शन कराए जा रहे थे, वहीं चुनर और प्रसाद भी चढ़ाने की अनुमति नहीं होने से श्रद्धालु दर्शन लाभ ही ले सके। हरसिद्धि मंदिर में आज शाम को दीप मालिका लगाई जाएगी। गढ़कालिका, नगरकोट, छत्रेश्वरी चामुंडा माता, सावन भादवा बिजासन माता, शीतला माता मुल्लापुरा, गायत्री मंदिर उर्दूपुरा, चौसठ योगिनी, चौबीस खंबा आदि प्रमुख देवी मंदिरों में भी आज सुबह से श्रद्धालुओं का तांता दर्शन के लिए लगा रहा। हालांकि मंदिरों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य है, बावजूद इसके भीड़ होने से कोविड-19 के नियमों का पालन होते हुए मंदिरों में दिखाई नहीं दिया।

Related Articles

Back to top button
Close