उज्जैन

वनस्पति घी मिल्क पाउडर स्टार्च से बना रहे थे मावा और देशी घी प्रशासन ने तोड़ी फैक्ट्री

Publish Date: | Fri, 20 Nov 2020 11:53 PM (IST)

उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के उंडासा क्षेत्र में मावा व अन्य दुग्ध उत्पादन बनाने वाली फैक्ट्री पर शुक्रवार दोपहर खाद्य सुरक्षा विभाग और प्रशासन की टीम ने छापा मारा। वहां वनस्पति घी, मिल्क पाउडर, स्टार्च मिलाकर मावा और देशी घी बनाने का काम चल रहा था। प्रशासन को मौके से 600 किलो मावा, 150 किलो घी, 400 लीटर दूध, 125 किलो मिल्क पाउडर, 180 किलो वनस्पति घी, 5 पैकेट स्टार्च मिला। भारी मात्रा में नकली घी और मावा बनाने की सूचना मिलने पर कलेक्टर आशीषसिंह व एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ला भी मौके पर पहुंचे। कलेक्टर ने खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग की मोबाइल जांच वैन को मौके पर बुलाया और दूध व मावे के सैंपल की जांच करवाई। इसमें दूध का फेट काफी कम मिला। वहीं मावा भी गड़बड़ मिला। इसके बाद कलेक्टर ने फैक्ट्री तोड़ने के निर्देश दे दिए। देर शाम तक फैक्ट्री तोड़ने की कार्रवाई जारी थी।

पुलिस द्वारा अपराधों की रोकथाम के लिए शांतिदूत नाम से वाटसअप नंबर जारी किया गया है। इस नंबर पर लोग पुलिस को सूचना दे सकते हैं। गुरुवार को पुलिस के पास सूचना पहुंची थी कि हार्दिक मोदी निवासी ढाबा रोड की उंडासा तालाब के समीप स्थित अष्टमूर्ति फूड्स फैक्ट्री में नकली मावा, घी बनाया जा रहा है। इस पर एडीएम नरेंद्र सूर्यवंशी, एएसपी अमरेंद्रसिंह, सीएसपी पल्लवी शुक्ला व भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा। कार्रवाई में पुलिस को वहां 600 किलो मावा, 150 किलो घी, 400 लीटर दूध, 125 किलो मिल्क पाउडर, 180 किलो वनस्पति घी, 5 पैकेट स्टार्च मिला। इसकी कीमत करीब तीन लाख रुपये बताई जा रही है।

कर्मचारी के घर से मिला 315 किलो घी

पुलिस को जांच में पता चला था कि हार्दिक मोदी के कर्मचारी राहुल राठौड़ निवासी ग्राम माधोपुरा के यहां भी काफी मात्रा में नकली घी रखा हुआ है। इस पर वहां भी दबिश दी गई। मौके से प्लास्टिक के ड्रम में भरा 315 किलो नकली घी बरामद किया गया है। एडीएम सूर्यवंशी ने बताया कि मौके पर भारी मात्रा में नकली घी और मावा बनाने की सामग्री मिली है। वनस्पति घी में मिल्क पाउडर व स्टार्च मिलाकर उसे मशीन के माध्यम से मिलाया जाता था। इससे नकली मावा बन जाता था। वहीं वनस्पति घी में मिल्क पाउडर व देशी घी का एसेंस मिलाकर उससे घी बनाया जाता था।

मोबाइल जांच वैन बुलाई, दूध में नहीं मिला फेट

कलेक्टर सिंह ने तत्काल मावा, दूध की जांच के लिए खाद्य एवं औषधि विभाग की जांच वैन मौके पर बुला ली थी। इसमें दूध व मावे के सैंपल की जांच की गई। दूध में मानक स्तर पर 5.5 फेट होना चाहिए, जबकि फैक्ट्री के दूध में मात्र 0.22 फेट ही मिला है।

हाथों-हाथ तुड़वा दी फैक्ट्री

कलेक्टर आशीष सिंह ने फैक्ट्री तुड़वाने के आदेश दे दिए। इसके बाद नगर निगम की दो जेसीबी बुलाकर फैक्ट्री तोड़ने का काम शुरू कर दिया गया। देर शाम तक फैक्ट्री की बाउंड्रीवॉल, आगे की ओर बनाए गए कमरे व दीवार तोड़ दी गई। पुलिस ने फैक्ट्री की बिजली कटवा दी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 


Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close