उज्जैनदेश

देश के बड़े हेलीकॉप्टर और विमान क्रैश

संजय गांधी से लेकर सिंधिया सहित इन नेताओं ने गंवाई थी जान

सीडीएस जनरल बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर क्रैश में निधन ने पुराने घावों को कुरेद दिया है। देश में कई बड़े नेताओं ने इसी तरह के हादसों में अपनी जान गंवाई थी।
देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत का हेलीकॉप्टर हादसे में निधन हो गया। इस हादसे ने उन घटनाओं की यादें ताजा कर दीं, जिनमें कई बड़ी हस्तियों को जान गंवानी पड़ी थी। देश में कई बड़े नेताओं ने इसी तरह के हादसों में अपनी जान गंवाई थी। इनमें वाई एस राजशेखर रेड्डी, संजय गांधी, माधव राव सिंधिया, जीएमसी बाल योगी, एस मोहन कुमारमंगलम जैसे लोग शामिल थे।
पार्कर पेन से पहचाने गए थे मोहन कुमार मंगलम 
31 मई 1973 को कांग्रेस नेता मोहन कुमार मंगलम की मौत भी विमान हादसे में हुई थी। वह इंडियन एयरलाइंस 440 नाम के विमान पर सवार थे। उनके मृत शरीर को उनके पार्कर पेन से पहचाना गया था।
संजय गांधी की असमय मौत
23 जून 1980 को भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बेटे संजय गांधी की मौत भी प्लेन क्रैश में हुई थी। उनकी मौत नई दिल्ली स्थित सफदरजंग एयरपोर्ट के करीब हुई थी। इस दौरान वह अपना प्राइवेट विमान खुद उड़ा रहे थे। वह एक अच्छे पायलट थे।
माधवराव सिंधिया की हेलीकॉप्टर क्रैश में गई जान
30 सितंबर 2001 को उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले में कांग्रेस नेता माधवराव सिंधिया की मौत भी हेलीकॉप्टर हादसे में हुई थी। वह अपने 10 सीटर निजी विमान में सवार थे। इसमें चार पत्रकार भी शामिल थे। भारी बारिश की वजह से प्लेन क्रैश होकर मोटा गांव में एक धान के खेत में गिर गया था।
जीएमसी बालयोगी का हेलीकॉप्टर हुआ था क्रैश
3 मार्च 2002 को लोकसभा स्पीकर तेलुगू देशम पार्टी लीडर जीएमसी बालयोगी की मौत आंध्र प्रदेश में हेलीकॉप्टर क्रैश में हुई थी। बालयोगी बेल 206 नाम के हेलिकॉप्टर में सवार थे। घटना की वजह खराब दृश्यता थी। गलती से पायलट ने हेलीकॉप्टर को एक तालाब के ऊपर लैंड करवा दिया था।
सी संगमा की मौत भी हेलीकॉप्टर क्रैश में
6 सितंबर 2004 को केंद्रीय मंत्री और मेघालय के कम्युनिटी डेवलपमेंट मिनिस्टर सी संगमा की मौत भी हेलीकॉप्टर क्रैश में ही हुई थी। पवन हंस हेलीकॉप्टर पर सवार होकर संगमा गुवाहाटी से शिलांग की तरफ जा रहे थे।
ओपी जिंदल का विमान हुआ था हादसे का शिकार
31 मार्च 2005 को हरियाणा के बिजली मंत्री ओ पी जिंदल की मौत भी विमान हादसे में हुई थी। तकनीकी खराबी की वजह से विमान उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में क्रैश हो गया था।
वाईआरएस रेड्डी का शव 27 घंटे बाद मिला था
3 सितंबर 2009 को आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी की मौत की वजह भी हेलीकॉप्टर क्रैश बनी। जिस हेलीकॉप्टर में वह सवार थे, वह चित्तूर जिले के जंगल में क्रैश हो गया था। यह अमेरिकी टेक्नोलॉजी पर आधारित डबल इंजन वाला बेल 430 चॉपर था। उनका शव 27 घंटे बाद मिला था।
MI-17V5 Helicopter पिछले पांच साल में छह बार हादसों का शिकार हो चुका है यह हेलिकॉप्टर
एमआई-17 (MI-17V5) हेलिकॉप्टर को भारतीय वायु सेना के सबसे सुरक्षित हेलिकॉप्टरों में एक माना जाता है। भारत ने रूस से 80 एमआई-17 हेलिकॉप्टरों की खरीद की थी। 2011 में इन हेलिकॉप्टरों की आपूर्ति प्रारंभ हुई थी और साल 2018 में पूरी हो गई थी। हालांकि, पिछले पांच वर्षों की बात करें तो इस हादसे को मिलाकर छह बार ये दुर्घटना का शिकार हो चुके हैं।
अरुणाचल प्रदेश, 18 नवंबर 2021
बीती 18 नवंबर को वायु सेना का यह हेलिकॉप्टर अरुणाचल प्रदेश में लैंडिंग करने के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। हालांकि, पांचों क्रू सदस्य सुरक्षित बच गए थे और उन्हें हल्की चोटें ही आई थीं। यह घटना उस समय हुई थी जब हेलीकॉप्टर एयर मेंटेनेंस चार्ज कर रहा था। हादसे के कारणों की जांच के लिए एक कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का आदेश जारी किया गया था।
केदारनाथ धाम, 23 सितंबर 2019
2018 में भी केदारनाथ धाम में हादसे का शिकार हो चुका एमआई-17 हेलिकॉप्टर 2019 में भी यहां दुर्घटनाग्रस्त हुआ। 23 सितंबर 2019 की सुबह टेकऑफ करते वक्त हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ था। इस हादसे में हेलिकॉप्टर में सवार पायलट समेत सभी छह लोग सुरक्षित बच गए थे। यह हेलिकॉप्टर केदारनाथ से गुप्तकाशी जाने के लिए उड़ान भरने जा रहा था।
जम्मू-कश्मीर, 27 फरवरी 2019
27 फरवरी 2019 की सुबह करीब 10 बजे जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में वायु सेना का एमआई-17 क्रैश हो गया था। इस दुर्घटना में वायुसेना के छह अधिकारियों सहित एक आम नागरिक की मौत हो गई थी। जांच में पता चला था कि यह हेलिकॉप्टर लापरवाही के चलते अपनी ही मिसाइल का शइकार हुआ था। मामले में कई अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई हुई थी।
केदारनाथ धाम, 03 अप्रैल 2018
तीन अप्रैल 2018 को उत्तराखंड के केदारनाथ धाम में वायु सेना का एक एम-आई-17 हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। गुप्तकाशी से पुनर्निर्माण सामग्री लेकर आ रहा यह हेलिकॉप्टर हेलिपैड से करीब 60 मीटर पहले ही हादसे का शिकार हो गया था। इस हेलिकॉप्टर में छह लोग सवार थे जिनमें से एक को हल्की चोट आई थी और बाकी पूरी तरह सुरक्षित थे।
अरुणाचल प्रदेश: 06 मई 2017
छह मई 2017 को अरुणाचल प्रदेश के तवांग के पास वायु सेना के एक एमआई-17 हेलिकॉप्टर उड़ान भरने के दौरान हादसे का शिकार हो गया था। इस दुर्घटना में पांच जवान शहीद हुए थे और दो अन्य लोगों की जान भी गई थी। वायु सेना के अनुसार इस हेलिकॉप्टर ने सुबह छह बजे उड़ान भरी थी और इसके कुछ ही देर बाद यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

Related Articles

Back to top button